Home भाभी की चुदाई स्टोरीस भाभी की तड़प – desi bhabhi

भाभी की तड़प – desi bhabhi

0
79908

भाभी की तड़प – desi bhabhi

फ्रेंड्स मैं अंकुश हाइट 172 और एथलीट बिल्ट का जालंधर से हूँ और मुझे मॅरीड गर्ल्स, भाभी’से की चुत लेने में बहुत मजा आता है क्योंकि इसमें कोई डर नहीं होता और ऐसी भाभी’से चुदवाने में बहुत मजा देती है. अब मैं आप सबको बोर ना करते हुए स्टोरी पर आता हूँ.

बात 3 मंत्स पहले की है मैं बहुत बीमार हो गया और मैं अपनी सिस्टर के पास चला गया लुधियाना जो की डॉक्टर है और वो किसी के घर में पेयिंग गेस्ट रहती है और उसके लेंडलोड बहुत ही अच्छे है पर भाभी बहुत ही हॉट है. सिस के लेंडलोड के एल्डर सन का आक्सिडेंट हो गया था और वो 4 मंत्स से बेड पर ही है और ना ही कुछ बोलता है और ना ही चल सकता है और ऐसे में भाभी बहुत परेशान थी और किसी से ज्यादा बात भी नहीं करती थी और जब मेरी सिस हॉस्पिटल चली जाती तो मैं रूम में अकेला ही हो जाता था और भाभी मुझे खाने को कुछ ना कुछ दे जाती थी. एक दिन जब वो मुझे जूस देने आई तो उनकी आँखों में अलग सी चमक थी जैसे की वो मुझे न्यूड देख रही हो और मैंने भाभी से पूछा की भाभी क्या बात है तो उन्होंने कहा की कुछ नहीं बस ऐसे ही. उसे दिन वो मुझसे खुल कर बात करने लग गयी और मैं उनसे उनकी लाइफ के बारे में पूछने लगा और वो कुछ परेशान सी हो गयी मैंने ज़ोर देकर पूछा की क्या बात है भाभी मुझे नहीं बनाएगी पहले तो वो बहुत मना करती रही फिर बाद में बहुत ज़ोर देने से बताया की तुम्हें तो पता ही है की तुम्हारे भैया का आक्सिडेंट हो गया है और मैं 4 मंत्स से तड़प रही हूँ कोई नहीं है जो मेरी परेशानी को सॉल्व कर सके..

मैंने पूछा की कैसी परेशानी आप मुझे बताओ मैं 101% जरूर सॉल्व करूँगा मैं कसम दे दी भाभी को. भाभी तो मानो अंदर ही अंदर बहुत खुश हो गयी पर मुझे शो नहीं होने दिया और कहने लगी तुम्हें तो पता ही है एक लड़की को क्या चाहिए होता है और वो मुझे घुमा फिरा कर बताने लगी मैं भी समझ चुका था की वो क्या चाहती है पर मैं उनके मुंह से ही सुनना चाहता था और वो कहने लगी की मुझे सेक्स किए हुए 4 मंत्स हो गये है और मैं घर से बाहर भी कभी नहीं गयी और मेरी तड़प बहुत ज्यादा तरफ गयी है अब तो दिल करता है किसी से भी चुदाया लंड…

भाभी की तड़प – desi bhabhi

जब उन्होंने ने ऐसा कहा तो मैंने भाभी का हाथ पकड़ लिया की भाभी मैंने आपसे प्रॉमिस किया था की मैं आपकी हेल्प करूँगा और ऐसा मौका आप मुझे दीजिए आप जिंदगी भर याद रखोगी की मैंने कैसे आपको खुश किया. मेरा लक इतना अच्छा था की नेक्स्ट डे मेरी सिस के लेंडलोड का प्लान बना की वो लोग भैया को दिखाने दिल्ली लेकर जा रहे है और 3-4 डेज़ तक वापिस आएँगे और घर में मैं भाभी और मेरी सिस ही रही गये थे और बाकी सब चले गये. वो सब लोग मॉर्निंग में चले गये और थोड़ी सेर बाद मेरी सिस भी हॉस्पिटल को निकल गयी और तभी मैं भाभी के रूम में गया भाभी मेरा ही इंतजार कर रही थी और मैंने भाभी को ज़ोर से हग किया और किस करने लगा वो तो मुझसे भी ज्यादा जल्दी में थी और बहुत ही खुश थी.

मैं भाभी को किस करता रहा और उनकी बॉडी पर और उनके बूब्स को दबाता रहा तभी मैंने भाभी को बेड पर लिटा लिया और उनको बेड पर ही ज़ोर ज़ोर से किस करता रहा और मैंने फिर धीरे से भाभी का टॉप उतरा और उनकी केप्री भी उतार दी और अब वो सिर्फ़ ब्रा और पेंटी में ही थी और वो ब्रा और पेंटी में क्या लग रही थी बिलकुल स्वर्ग की अप्सरा लग रही थी उनके 34द साइज के बूब्स बाहर आने को मतवाले हो रहे थे और उनकी पेंटी गीली हो चुकी थी… फिर मैंने अपने क्लोथस उतरे और मैं भी सिर्फ़ शॉर्ट्स में था और फिर मैंने भाभी के बूब्स को ब्रा के ऊपर से ही किस करने लगा और मैंने भाभी की ब्रा की हुक खोल दी और वॉवववववववववव क्या बूब्स थे मैं तो देखता ही रही गया मैंने ज़रा भी देर किए बिना भाभी के बूब्स की निपल्स को सक करना स्टार्ट कर दिया और क्या निपल्स थी और बूब्स तो इतने बारे थे जैसे किसी पॉर्न स्टार के बूब्स हो और मैं तो 15 मिनट उनके बूब्स ही छूटा रहा और फिर धीरे उनकी बॉडी पर भी किस करने लगा और उनकी नेवेल पर किस करता करता उनकी पैंटी के पास आया और उनकी पैंटी उतार दी और वूओववववव क्या स्मेल थी उनकी चुत की मस्त गीली चुत मैं उनकी चुत पर किस करने लगा और जब मैंने अपनी टंग उनकी चुत पर चाटने लगा तो वो तो बहुत मदहोश होने लगी कहने लगी की ऐसा तो तुम्हारे भैया ने कभी नहीं किया था मेरे साथ और मैंने भी भाभी को कहा की मैंने आपको कहा था की मैं आपको ऐसे खुश करूँगा की आप कभी भी भूलूंगी नहीं….

[td_block_9 custom_title="मज़ेदार सेक्स कहानियाँ" header_color="#dd3333" tag_slug="indian-desi-sex-stories" sort="random_posts" limit="5"]

फिर मैंने अपने शॉर्ट्स भी उतार दिए और भाभी मेरे पेनिस को देख कर डर गयी कहने लगी की इतना बड़ा पेनिस तुम्हारे भैया का तो इस से हाफ ही है लगता है आज तुम मेरी चुत को फाड़ दोगे मैंने कहा भाभी डोंट वरी आप फिक्र ना करो आज आपको मैं जन्नत की सायररर कराऊंगा और भाभी ने एक पल भी देर ना करते हुए मेरे पेनिस को अपने मौत में डाल कर सक करने लगी और उनके सक करने से मेरा पेनिस और हार्ड हो गया और प्री कम निकालने वाला था और मैंने बिना बताए भाभी के मौत में ही उसको निकल दिया और भाभी भी उसको जूस की तेरह पी गयी और फिर हम दोनों अगेन किस करने लगे और कुछ देर के लिए हम ऐसे चिपक कर लेते रहे की हम दोनों से एर भी क्रॉस ना हो सके और फिर भाभी ने कहा की अब और मत तड़पा बस मेरी आग बुझाओ…

फिर मैंने अपना पेनिस भाभी की चुत पर रखा और ज़ोर से धक्का दिया पर मेरा पेनिस पूरा अंदर नहीं गया क्योंकि भाभी 4 मंत्स से किसी से चुदी नहीं थी और ऐसा लग रहा था की जैसे की उनकी चुत बिलकुल नयी है मैंने अगेन ज़ोर से धक्का दिया इस बार मेरा पूरा लंड उनकी चुत के अंदर और भाभी ज़ोर से चिल्लाई और आााऊऊऊऊऊओक्ककचह कहा बहुत ज़ोर से और मैंने अब अपना पेनिस अंदर बाहर करने लगा और भाभी और ज़ोर से चिल्लाने लगी और मैंने अपनी बढ़ता बड़ा कर भाभी को किस करने लगा और और उनकी आवाज़ आनी भी कुछ कम हुई और उसे दिन मैं भाभी को 30 मिनट तक चोदता रहा है और मैंने अपना सारा कम भाभी की चुत में ही चोर दिया और उनको बहुत मजा आया.. हमारे इस सेक्स में हमें टाइम का पता ही नहीं चला और डोरबेल बाजी और मैंने टाइम देखा तो सिस के आने का टाइम हो गया था मैं अपने क्लोथस लेकर भागा अपने रूम में और भाभी भी जल्दी जल्दी अपने कपड़े पहन कर दूर खोलने चली गयी और हमारा सेक्स बीच में ही चुत गया पर यह भी ज्यादा देर तक नहीं छूटा और उसे रात को हमने पूरी रात चुदाई की क्योंकि मेरी सिस भाभी के साथ सोने चली गयी और मैंने भाभी को कह दिया था की सिस के दूध में आज नींद की दवा मिला देना और भाभी ने ऐसे ही किया और जब सिस गहरी नींद में सो गयी तो भाभी मेरे रूम में आ गयी..

इस बार वो मेरे रूम में बिना कपड़ों के आ गयी क्योंकि हमें अब किसी का डर नहीं था और मैं भी अपने कपड़े खोल कर रेडी था और आते ही भाभी ने मुझे किस करना स्टार्ट किया और हम दोनों ने अपना सेक्स स्टार्ट किया और उसे दिन मैंने भाभी को 5 टाइम्स चोदा और उनकी 4 मंत्स से तड़प रही चुत को शांत किया और भाभी तो इतनी खुश थी की वो मुझे चोर कर जाना ही नहीं छाती थी और ऐसे ही हमारा यह सिलसिला 4 डेज़ तक चलता रहा और जो आज तक चल रहा है और जब भी मैं लुधियाना जाता हूँ तो भाभी की चुत को शांत जरूर करता हूँ और जब भी भाभी ज्यादा परेशान होती तो मैं स्पेशल लुधियाना आ जाता और हम दोनों की बात तो वैसे भी डेली होती रहती है और हम दोनों बहुत खुश है और भाभी मुझे भी ज्यादा खुश है….

फ्रेंड्स अब आप लोग बताओ की आपको मेरी यह स्टोरी कैसी लगी और प्ल्ज़्ज़ रिप्लाइ जरूर करे और अपनी नेक्स्ट स्टोरी में मैं आपको बताऊंगा की कैसे मैंने अपनी सिस को ही भाभी के साथ कैसे चोद दिया और अब तो वो भी अपने हब्बी से ज्यादा मुझसे चुदवाने लगी है….

भाभी की तड़प – desi bhabhi

Content Protection by DMCA.com

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here