चुदाई से बड़ा और कोई सुख नही – 68

0
8

जब भुआ के बुटीक पहुँचा तो नीचे क्लोज़ का साइन लगा हुआ था ओर डोर लॉक था,,मैंने बेल बजाई ओर भुआ नीचे आ गयी,,,भुआ ने नाइटी पहनी हुई थी,,,अरे भुआ आज किस खुशी में क्लोज़ किया है,,,,कुछ नहीं बेटा आज वैसे ही दिल किया छुट्टी करने का तो करली बाकी लोगों को भी छुट्टी दे दी,,,अच्छा मुझे क्यों बुलाया है भुआ क्या सर्प्राइज़ है मेरे लिए,,तू पहले ऊपर तो चल फिर बतती हूँ,,,मैं ओर भुआ ऊपर चले गये,,कुछ लेगा चाय या कॉफी नहीं भुआ थेन्क्स मैं सोनिया की फ़्रेंड कविता के घर से पीके आया हूँ,,,बताओ ना सर्प्राइज़ क्या है,,,तभी भुआ रूम में चली गयी ओर एक कपड़े का टुकड़ा लेकर आ गयी,,ओर मेरे नज़दीक आकर मुझे लिप्स पे किस करने लगी,,मैं भी किस करने लगा,,किसी करते हुए भुआ ने मेरी आइज़ पे वो कपड़े का टुकड़ा बाँध दिया,,,,ये क्या मज़ाक है भुआ,,मज़ाक नहीं बेटा सर्प्राइज़ है ओर सर्प्राइज़ तो इसे ही दिया जाता है,,,,भुए मेरे को बेड रूम में गयी ओर मेरे कपड़े उतारकर मुझे नंगा कर दिया ओर मेरे से लिपकर मुझे किस करने लगी,,,

भुआ जब मेरे से लिपटी तो पता चल गया की भुआ भी नंगी हो चुकी थी,,भुआ ने मुझे बेड पर लेता दिया ओर मुझे किस करते हुए मेरी चेस्ट पे हाथ फेरने लगी,मैं भी भुआ की किस का रेस्पॉन्स देने लगा लेकिन जब मैंने किस करते हुए भुआ के बूब्स को या बॉडी को टच करने की कोशिश की तो भुआ ने मुझे रोक दिया ओर मेरे हाथों को बेड पर सटा दिया ,,भुआ मुझे किस करते हुए मेरी चेस्ट पे हारह फिरती हुई नीचे की तरफ ले जाने लगी ओर कुछ ही देर में भुआ का हाथ मेरे लंड पर था जो पहले से हार्ड हो चुका था,,भुआ ने उसको मुट्ठी में लिया ओर सहलाने लगी,, फिर भुआ मेरी चेस्ट पे किस करती हुई नीचे लंड की तरफ जाने लगी ओर कुछ देर बाद मुझे लंड किसी गीली जगह में महसूस होने लगा मेरा लंड भुआ के मुंह में पहुँच गया था जिसको वो बारे प्यार से लोलीपोप की तरह चूस रही थी,मुझे ये सर्प्राइज़ बहुत अच्छा लग रहा था,भुआ मेरे लंड को कगुती हुई अपनी जुबान से मेरे लंड की टोपी को चाट रही थी ओर अपने हाथों से मेरी बॉल्स को मुट्ठी में लेकर सहला रही थी,,,,मैं बहुत एंजाय कर रहा था तभी,तभी भुआ ने लंड को मुंह से निकल दिया ओर ओर हाथों से मूठ मरने लगी ओर ऊपर आकर मुझे लिप्स पे किस करने लगी,,मैं भी मस्ती में किसी करने लगा तभी मुझे झटका लगा,,मेरा लंड फिर से किसी गर्म ओर गीली जगह में धंस गया था अगर भुआ मुझे किस कर रही थी तो लंड कोन चूस रहा था,,,,मुझे ये सोच कर प्रेशानि भी हो रही थी ओर साथ ही मजा भी बहुत आ था,,,इतना तो पक्का हो गया था की हम 2 नहीं 3 लोग है रूम में ,,तभी किसी ने मेरी आइज़ पर बढ़ा हुआ कपड़ा खोल दिया ओर मैंने जो देखा उसे से खुश हो गया,,,

मज़ेदार सेक्स कहानियाँ

मेरा लंड चूसने वाली कोई ओर नहीं पूजा थी ओर भुआ मुझे किस कर रही थी,,मैं तो यही देख कर पागल हुआ जा रहा था की आज मेरी किस्मत कितनी अच्छी है जो 2 नंगे ओर खूबसूरत जिस्मो के साथ मस्ती का मोक़ा मिला मुझे,,,,भुआ मुझे किस करते हुए चेस्ट पर हाथ फेयर रही थी ओर पूजा लंड को चूस रही थी ओर अपने हाथों से बॉल्स को सहला रही थी,,मैंने मस्ती में आकर भुआ के बूब्स को ज़ोर से मसलना शुरू कर दिया,,,फिर भुआ ने मेरे लिप्स को छोड दिया ओर नीचे की तरफ चली गयी ओर पूजा के मुंह से मेरा लूँगा निकल कर अपने मुंह में ले लिया ओर चूसने लगी,ओर पूजा ऊपर की तरफ आकर मेरी चेस्ट पे किस करने लगी ओर मेरे निपल्स को मुंह में लेकर चूसने ओर काटने लगी मैंने अपने हाथ पूजा के बूब्स पर रखे ओर उनको ज़ोर से मसला तभी उसके मुंह से हल्की सी चीख निकल गयी,,,ओर वो मेरी टार्फ़ देख कर मुस्कराने लगी ओर वापिस मेरी निप्पल को मुंह में लेकर चूसने लगी मैंने अपने हाथों से उसके बूब्स को सहलाना जारी रखा उसके बूब्स छोटे छोटे थे ज्यादा छूते भी नहीं,,,वो क्या हां ना की मेरी आंटी के बूस्ब् बहुत बारे है इसलिए मुझे बाकी हर किसी के बूब्स छोटे ही लगते है,,,,पूजा के बूब्स नॉर्मल साइज के थे जीतने की शोभा के थे,,,मैंने पूजा के सर को पकड़ा ओर अपनी तरफ खींच लिया ओर उसके लिप्स को अपन एलिप्स में जकड़ कर पागलों की तरह किस करने लगा,,अब तक मैंने भुआ ओर सरिता आंटी जैसे ज्यादा आगे की औरतों साथ बेड पर नंगा हुआ था लेकिन पूजा तो जस्ट 22 एअर की जवान ओर खूबसूरत लड़की थी जिसे वजह से मीटा मजा तरफ गया था,,,ये मतलब नहीं की मुझे सरिता आंटी ओर भुआ के साथ सेक्स करना अच्छा नहीं लगा था या कम मजा आया था लेकिन हर आगे की लेडी का प्न आयी अलग मजा ओर आकर्षण होता है,,,,,

मैं एउसके लिप्स को पागलों की तरह किस करना शुरू कर दिया उसकी हालत भी मेरे जैसी थी उसके किस करने के स्टाइल में भी मगलपन झलक रहा था उधर भुआ ने मेरे लंड को मुंह से निकल दिया था ओर मेरे ऊपर बैठ कर लंड को चुत में ले लिया था,,ओर खुद को ऊपर नीचे करते हुए मेरे लंड से चुदने लगी थी, मेरी मस्ती बहुत ज्यादा तरफ गयी थी मैंने पूजा को ओर आगे की तरफ खेंच लिया ओर बूब्स को मुंह में भर लिया ओर चूसने लगा,,उसके बूब्सेक दम गोरे गोरे थे ओर हार्ड भी,,,उसके ऊपर छोटी छोटी ब्राउन रंग की कॅप थी वो भी हार्ड हो चुकी थी मैंने बूब्स को चूसते हुए उसको कॅप को काटना शुरू कर दिया वो मेरे बालों में अपनी उंगलियां चलाने लगी ओर मुझे अच्छी तरह से बूब्स चूसने के लिए इशारा करने लगी मैं बूब्स पर टूट पड़ा ओर ज़ोर ज़ोर से चूसने लगा फिर मैंने अपना हाथ पूजा की चुत की तरफ खिसकना शुरू कर दिया ओर उसकी चुत पर जाकर उसको सहलाने लगा उसकी चुत ज्यादा खुली नहीं थी ओर ना ही उसका बाहर का चंदा ज्यादा बड़ा ओर लटका हुआ था जैसे सरिता आंटी ओर भुआ का था,,,मैंने अपनी उंगली उसी चुत में दल्दी,,तभी उसने मेरे बालों को हल्का सा खींच दिया ओर मुझे थोड़ा दर्द हुआ तो मैंने तेजी से अपनी एक उंगली उसकी चुत मेरे चलानी शुरू करदी उधर भुआ पूरी तेजी से चुत को चुदाया रही थी,, मैंने जल्दी से पूजा को ओर आगे आने का इशारा किया ओर वो मेरा इशारा समाज गयी ओर आगे की ओर खिसक गयी,,

चुदाई से बड़ा और कोई सुख नही - Chudai Se Bada Aur Koi Sukh Nahi

<< चुदाई से बड़ा और कोई सुख नही – 67चुदाई से बड़ा और कोई सुख नही – 69 >>
Content Protection by DMCA.com

LEAVE A REPLY