साइबर सेक्स – Ek Kahaani – 21

0
4

उसे चाटिंग का अविष्कार हुआ तब से ही उसे यह बहुत पसंद आया था. पहले खाली वक्त में वक्त बिताने का गप्पे मारना इससे कारगर कोई तरीका नहीं होगा ऐसी उसकी सोच थी. लेकिन अब जब से चाटिंग का अविष्कार हुआ उसकी सोच पूरी तरह बदल गयी थी. चाटिंग की वजह से आदमी को मिले बिना गप्पे मारना अब संभव हो गया था. कुछ जान पहचँवाले तो कुछ अजनबी लोगों से चाट करने में उसे बड़ा मजा आने लगा था. अजनबी लोगों से आमने सामने मिलने के बाद कैसे उन्हें पहले अपने कंफर्टबल ज़ोन में लाने के लिए कभी एक घंटा तो कभी कई सारे दिन भी लग सकते है. चाटिंग पर वैसा नहीं होता है. कोई पहचान का हो या अजनबी बिंडस्त मेसेज भेज दो. सामनेवाले ने एंटरटेन किया तो ठीक नहीं तो दूसरा कोई साथी ढुणडो. अपने सारे विकल्प होते है. कुछ ना समझनेवाले तो कुछ गली गलोच वाले कुछ संवाद उसे चाटिंग विंडो में ऊपर ऊपर खिसकते हुए दिखाई दे रहे थे.

तभी उसे बाकी मेसेजस से कुछ अलग मेसेज दिखा,

“अच्छा तुम क्या करती हो…?… मेरा मतलब पढ़ाई या जॉब…?”

किसी संतोष का मेसेज था.

वह उसका असली नाम भी हो सकता था या नकली भी….

“मैंने बी.ए. कंप्यूटर किया हुआ है… और हे.ग. इनफॉरमटिक्स इस खुद के कंपनी की में फिलहाल मॅनेजिंग डाइरेक्टर हूँ…” संतोष के मेसेज के रेस्पॉन्स के तोर पर यह मेसेज अवतरित हुआ था.

भेजनेवाले का नाम अंकिता था.

अचानक मेसेज पढ़ते हुए पवन के दिमाग में एक विचार कौंधा….

इस मेसेज से क्या में कुछ फायदा ले सकता हूँ…?

वह मान ही मान सोचकर सारी संभावनाए टटोल रहा था. सोचते हुए अचानक उसके दिमाग में एक आइडिया आ गया.

वह झट से जाए की तरफ मुड़ते हुए बोला, “जाए जल्दी से इधर आ जाओ..”

उसका चेहरा एक तरह की चमक से दमक रहा था.

जाए एक्साइज करते हुए रुक गया और कुछ इंटेरेस्ट ना दिखाते हुए धीमे धीमे उसके पास आकर बोला, “क्या है…?… अब मुझे ठीक से एक्साइज भी नहीं करने देगा…?”

“अरे इधर मॉनिटर पर तो देखो… एक सोने का अंडा देनेवाली मुर्गी हमें मिल सकती है…” पवन फिर से उसका इंटेरेस्ट जागृत करने का प्रयास करते हुए बोला…

अब कहा जाए थोड़ा इंटेरेस्ट लेकर मॉनिटर की तरफ देखने लगा.

तभी चाटिंग विंडो में अवतरित हुआ और ऊपर खिसक रहा संतोष का और एक मेसेज उन्हें दिखाई दिया,

“अरे बप्रे…!” तुम्हें तुम्हारे उमर के बारे में पूछा तो गुस्सा तो नहीं आएगा..? नहीं… मतलब मैंने कही पढ़ा है की लड़कियों को उनके उमर के बारे में पूछना अच्छा नहीं लगता है…”

उसके बाद तुरंत अंकिता ने भेजा हुआ रेस्पॉन्स भी अवतरित हुआ –

“23 साल..”

“देख तो यह हंस और हंसिनी का जोड़ा… यह हंसिनी एक सॉफ्टवेयर कंपनी की मालिक है…. मतलब मल्टी मिलियन डॉलर्स…” पवन अपने चेहरे पर आए लालच भरे भाव छुपाने का प्रयास करते हुए बोला.

तभी फिरसे चाटिंग विंडो में संतोष का मेसेज अवतरित हुआ,

“अरे यह तो मुझे पता ही था…मैंने तुम्हारे मैल आइडी से मालूम किया था… सच कहूँ..? तुमने जब बताया की तुम मॅनेजिंग डाइरेक्टर हो…तो मेरे सामने एक 40-50 साल के वयस्क औरत की तस्वीर आ गयी थी…”

जाए ने उन दोनों के उस विंडो में दिख रहे सारे मेसेजस पढ़ लिए और पूछा, “लेकिन हमें क्या करना पड़ेगा…?”

“क्या करना है यह सब तुम मुझ पर चोद दो… सिर्फ़ मुझे तुम्हारा साथ चाहिए…” पवन अपना हाथ आगे बढ़ते हुए बोला…

“कितने पैसे मिलेंगे…?” जाए ने असली बात पर आते हुए सवाल पूछा…

“अरे लाखों करोड़ों में खेल सकते है हम…” पवन जाए का लालच जागृत करने का प्रयास करते हुए बोला.

“लाखों करोड़ों…?” जाए पवन का हाथ अपने हाथ में लेते हुए बोला, “तो फिर में तो अपनी जान भी देने के लिए तैयार हूँ…”

तभी फिर से चाटिंग विंडो में अंकिता का मेसेज अवतरित हुआ, “तुमने तुम्हारी उमर नहीं बताई…?”

उसके पीछे ही संतोष का जवाब चाटिंग विंडो में अवतरित हुआ, “मैंने मेरे मैल अड्रेस की जानकारी में… मेरी असली उमर डाली हुई है…”

“23 साल… बहुत नाज़ुक उमर होती है… मछली प्यार के जाल में फास्कार कुछ भी कर सकती है…” पवन अजीब तरह से मुस्कुराते हुए बोला… लगभग आधी रात हो गयी थी. पवन के कमरे का लाइट बंद था. लेकिन फिर भी कमरे में चारों तरफ ढूंडली रोशनी फैल गयी थी. कमरे में, कोने में चल रहे कंप्यूटर के मॉनिटर की वजह से. पवन कंप्यूटर पर कुछ करने में बहुत लीं था. उसके आस पास सब तरफ खाने की, नाश्ते की प्लेट्स, चाय के खाली, आधे भरे हुए कप्स, चिप्स, खाली हो चुके व्हिस्की के गिलास और आधी से ज्यादा खाली हो चुकी व्हिस्की की बॉटल दिख रही थी. उसके पीछे बेड पर हाथ पैर फैला कर जाए सोया हुआ था. उस आधी रात के सन्नाटे में पवन तेजी से कंप्यूटर पर कुछ कर रहा था और उसके के बोर्ड के बटन्स का एक अजीब आवाज़ उस कमरे में आ रहा था. उधर पवन के पीछे सो रहे जाए का बेचैनी से करवट पे करवट बदलना जारी था.

आख़िर अपने आपको ना रोक पकड़ जाए उठकर….

Content Protection by DMCA.com

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here