मॅनेजर साहिब – Ek Tharki Company manager ki kahani – 6

0
4400

मैनेजर साहिब – Ek Tharki Company manager ki kahani – 6
प्रिया ने जवाब देते हुए कहा क्यों वो पैसे से वकील हे हे कोर्ट में और उसे जरूरी केस के चलते अर्जेंट्ली मुंबई जाना पड़ा क्योंकि उसे क्लाइंट से मिलना था और सुबह केस की हियरिंग हे.

फिर मैंने प्रिया की जींस की ज़िप खोलते हुए कहा वैसे नाम क्या हे आपकी बेस्ट फ़्रेंड का? और अपनी उंगली भी उसकी पैंटी में थोड़ा हाथ डाल के उसकी चुत में घुसा दी. तो प्रिया के मुझ से अऔचह की आवाज़ निकल गयी और कहने लगी की प्लीज़ यार कोई देख लेगा यहां और मैंने अपना हाथ वापिस ले लिया. मैंने खाहा चलो तुम अभी बोल रही हो तो चोद देता हूँ पर बाद में नहीं छोड़ुगा. वैसे जाए अगले 2 दिन तक वापिस नहीं आनेवाला हे.

प्रिया ने कहा की अरे तुमको कैसे पता चला तो मैंने कहा की वो मेरा रूम पार्ट्नर भी गया हे जाए के साथ.

फिर मैंने प्रिया से कहा की अरे नाम तो बताओ तुम अपनी बेस्ट फ़्रेंड का.

फिर वो थोड़ा रिलॅक्स हुई और उसने कहा की मेरी बेस्ट फ़्रेंड का नाम सोनलप्रीत कॉयार हे और वो जालंधर पंजाब से हे.

हम लोग प्यार से उसको सोनी बुलाते हे सोनी सीखनी. फिर वो थोड़ा रिलॅक्स हुई और उसने कहा की मेरी बेस्ट
फ़्रेंड का नाम सोनलप्रीत कॉयार हे और वो जालंधर
पंजाब से हे. हम लोग प्यार से उसे सोनी बुलाते हे सोनी सीखनी.

अच्छा सोनी सीखनी, नाम तो अच्छा हे लेकिन वो दिखने में कैसी हे?

प्रिया ने कहा समाज गयी में तुम क्या सोच रहे हो.

मैंने कहा क्या समझी तुम? प्रिया ने कहा अभी तो बस मैंने नाम ही कहा हे और तुमने क्या पूछा की वो दिखने में कैसी हे? तुम सब मर्द ना, लड़की से बस एक ही चीज़ चाहिए.

मैंने कहा और वो क्या चीज़ हे? प्रिया ने कहा तुम्हें पता हे वो क्या हे?

में ने कहा नहीं मुझे नहीं पता तो प्रिया ने कहा अरे यार वही जहां तुम सब लोग डालते हो और जो हमारे दो पारो के बीच में होती हे. मैंने अंजान बनते हुए कहा क्या और कहा डालने की बात कर रही हो?

प्रिया ने कहा अब तुम बदमसी मत करो तुम्हें पता हे और उसने अपनी चुत पर हाथ रखा और कहा की में इसकी बात कर रही हूँ. मैंने सीधे अपने हाथ उसकी जींस के ऊपर से ही उसकी चुत पर रखा और उसकी चुत पकड़ कर उसे थोड़ा हवा में ऊपर किया और उसे कहा तुम बिलकुल सही बोल रही हो हमें बस लड़कियों की चुत ही चाहिए जिसमें हम अपना लंड घुसेड़ सके और मजा ले सके.

प्रिया ने मुझसे कहा चोदा मुझे यहां कोई आ जाएगा और कितनी बार काहु में ये तुमको तो मैंने कहा चलो ठीक हे. फिर मैंने प्रिया को एक पैकेट दिया और उसे कहा में तुम्हारे लिए ये गिफ्ट लाया हूँ ये लो. प्रिया गिफ्ट लिया और कहा क्या हे इसमें? मैंने कहा तुम खुद ही देखलो तो उसने खोला तो उसमें ब्रा और पैंटी का सेट था. मैंने कहा की ये तुम्हें आज रात को मुझे पहन के दिखना हे तो प्रिया ने कहा देखो में रात को तो तुमसे नहीं मिल सकती मुझे घर वापिस जाना होगा 10 बजे तक वरना तुम तो जानते ही हो वो ड्राइवर जाए को फोन करके बता देगा में रात भर घर पर नहीं थी. मैंने प्रिया से कहा की चलो कोई बात नहीं लेकिन अभी 10 बजने में अभी 2 घंटे बाकी हे और हम अभी 2 घंटे तक कही चल सकते हे.

फिर मैंने प्रिया के कंधों पे हाथ रखा और उसे कहा मेरे रूम पे कोई नहीं हे हम वहां चलते हे. तो प्रिया ने कहा की उसका 1 फ्लैट यही पास में हे हम वहां चलते हे. तो मैंने कहा की फ्लैट की चाबी तो प्रिया ने कहा की वो मैंने साथ में ले ली हे. मैंने कहा मतलब तुम पूरी तैयारी से आई हो और बदनाम हमको करती हो. प्रिया ने कहा की गाड़ी भी वो खुद ड्राइव करके आई हे और मुझे गेट के बाहर से पिक कर लेगी.

फिर में माल से निकला और थोड़ी ही देर में प्रिया की गाड़ी आ गयी. में उसमें बैठ गया और वो गाड़ी चलाने लगी. में प्रिया की तरफ देख रहा था और फिर में टॉप के ऊपर से ही उसके बूब्स दबाने लगा. प्रिया कुछ नहीं बोल रही थी. फिर मैंने प्रिया के जींस की ज़िप खोली और उसमें अपनी 1 उंगली घुसा के उसकी चुत पर फिरने लगा.

पेया ने कहा तुम सब मर्द लोग सब्र नहीं कर सकते हे ना?

मैंने कहा अरे तुम भी गजब करती हो यार, सामने मिस्सवॉरल्ड बैठी हो और उसके बूब्स दबाने के बाद भी वो कुछ ना बोले तो मेरे जैसा भोलाभाला आदमी आगे तो बढ़े गा ना.

प्रिया ने कहा वो चित भी मेरी और पटा भी लेकिन अब तुम शांति से बैठो और यहां वहां हाथ मत लगाना ओके? मैंने कहा ओके.

अब हम उसके फ्लैट में दाखिल हुए और मैंने कहा वो बढ़िया फ्लैट हे आपका. तो उसने कहा थॅंक्स. फिर उसने पूछा तुम कुछ पीओगे तो मैंने कहा हां वोड्का विद वॉटर तो उसने कहा वॉटर विद वॉटर चलेगा क्योंकि वोड्का तो नहीं हे.

में सोफे पर बैठा हुआ था और मैंने प्रिया का हाथ खिच के अपने पास लाया और उसे अपनी झांघो पे बिता लिया. मैंने कहा चलो आप को जो जी करे वो पिलडो नासा तो आपकी इस चुत के पानी में बहुत हे और हम तो आज उसीका नासा करेंगे.

प्रिया शर्मा के खड़ी हुई और फ़्रीज़ के पास गयी और में भी उसके पीछे पीछे गया. प्रिया जैसे ही फ़्रीज़ खोल के पानी की बॉटल बाहर निकल ने के लिए थोड़ा जुकी तो मैंने उसकी गांड पर उंगली घुसा दी उसकी जींस के ऊपर से ही. फिर पीछे से ही मैंने उसकी जींस का स्तनों खोला और फिर जींस की ज़िप खोलकर जींस को नीचे घुटनों तक सरका दिया और फिर पीछे से उसकी कमा से होते हुए मैंने अपने दोनों हाथ उसकी पैंटी में घुसा दिए और फिर दोनों हाथों से उसकी चुत की दरार को फेलने लगा और उसकी चुत सहलाने लगा.फिर मैंने उसे अपनी तरफ घुमाया और उसके दोनों बूब्स पकड़ लिए और उसे दबाने लगा. फिर मैंने उसके निप्पल पकड़े तो प्रिया के मुंह से अऔचह की आवाज़ निकली और फिर में उसके निप्पल चूसने लगा. फिर मैंने उसका टॉप उतार दिया और नीचे फेंक दिया. अब वो सिर्फ़ ब्रा और पैंटी में थी और मेरा सब्र का बाँध टूट रहा था.
फिर मैंने उसके निप्पल पकड़े तो प्रिया के मुंह से अऔचह की आवाज़ निकल गयी और फिर में उसके निप्पल चूसने लगा. फिर मैंने उसका टॉप उतार दिया और नीचे फेंक दिया. अब वो सिर्फ़ ब्रा
और पैंटी में थी और मेरा सब्र का बाँध टूट रहा
था.

अब मैंने अपना हाथ उसकी पैंटी में डाल दिया और उसकी चुत सहलाने लगा. प्रिया अब पूरी तरह मदहोश हो चुकी थी और वो अपने दोनों हाथों से अपने बाल पकड़ कर अहह, ओह, जैसी आवाजें निकल रही थी. फिर मैंने उसको अपनी गोद में उठाया और बेडरूम की और चलने लगा. प्रिया ने भी अपने दोनों हाथ मेरे गले में डाल दिए.

मैंने प्रिया को बेडरूम में उतरा और उसके होंठ चूमने लगा फिर में उस से थोड़ा अलग हुआ और उसे कहा की मैंने तुम्हें वो गिफ्ट दिया था वो तो पहन के दिखाओ. तुम अपने ये चड्डी बनियान उतरो और जो मैंने दिए हे वो पहन के दिखाओ.

प्रिया ने थोड़ा चिल्लाके मुझे कहा चड्डी बनियंन्णणन्? हाउ मीन. इसे ब्रा और पैंटी कहते हे. मैंने कहा तुम समाज गयी ना और मैंने उसे उठाया और बाथरूम के पास चोद दिया. प्रिया बोली अरे इसमें बाथरूम में जाने की क्या जरूरत हे में यही रूम में ही चेंज कर लेती हूँ ना. मैंने प्रिया से कहा के मैंने तुमको पहन के दिखाने को कहा हे मेरे सामने पहन ने को नहीं और तुम जाओ और चेंज करके आओ. प्रिया ने कहा ठीक हे में जाती हूँ.

प्रिया बाथरूम में चली गयी और फिर मैंने अपना फोन निकाला और वीडियो रिकार्डिंग ऑन किया और रूम के कोने पर बने स्टैंड पर रख दिया जहां से पूरा रूम ठीक से दिखी देता हे और फिर में जल्दी से वापिस बाथरूम के दरवाजे के पास गया और नॉक करके बोला प्रिया तुम ब्रा और पैंटी पहन ने गयी हो या सारी?

और तभी प्रिया बाहर आई और उसने सीधा मेरा लंड पकड़ लिया और मसल ने लगी और बोली के चड्डी बनियान पहन ने में टाइम तो लगे गा ना. फिर मृने प्रिया बूब्स पकड़ के अपनी और खींचा और उसके होंठ मैंने अपने होंठ से जकड़ लिए.

फिर प्रिया ने एक के बाद एक मेरे सारे कपड़े उतार दिए और आख़िर में मेरा आंडरवेयर भी निकल दिया. अब में प्रिया के सामने बिलकुल नंगा खड़ा था और वो में सामने ब्रा और पैंटी में. फिर मैंने प्रिया के बाल पकड़े और अपने पास खिच के उसको उल्टा घुमा दिया. फिर मैंने पीछे प्रिया की ब्रा के हुक खोले और ब्रा उतार के नीचे फेंक दी और मैंने पीछे से हाथ डालकर प्रिया के दोनों बूब्स पकड़ लिए और उसे मसलने लगा. प्रिया पूरा जोश में आ गये थी और मुझे बोली और ज़ोर से तो मैंने उसके दोनों निप्पल अपने दोनों हाथों से पकड़ लिए और धीरे धीरे मसलने लगा. मेरा लंड प्रिया गांड में सटा हुआ था और में अपने दोनों हाथों से प्रिया के दोनों निप्पल धीरे धीरे मसल रहा था. प्रिया ने कहा मजा आ रहा हे और ज़ोर से करो तो में थोड़ा और ताक़त लगाकर उसकी निप्पल मसलने लगा तो वो बोली के थोड़ा और ज़ोर से तो मैंने अपनी पूरी ताक़त लगाई उसके निप्पल बेरहेमी से मसल डुए और प्रिया के मुंह से औचह की चीख निकल गयी और तभी मैंने उसके निप्पल चोदे और उसे अपनी तरफ घूमकर उसके होंठ पे अपने होंठ रख दिए और उसे चूसने लगा.
प्रिया ने कहा मजा आ रहा हे और ज़ोर से करो तो में थोड़ा और ताक़त लगाकर उसकी निप्पल मसलने लगा तो वो बोली के थोड़ा और ज़ोर से तो मैंने अपनी पूरी ताक़त लगाई उसके निप्पल बेरहेमी से
मसल डुए और प्रिया के मुंह से औचह की चीख निकल गयी और तभी मैंने उसके निप्पल चोदे और उसे अपनी तरफ घूमकर उसके होंठ पे अपने होंठ रख दिए और उसे चूसने लगा.

फिर में प्रिया के पैरों के पास बैठ गया और उसके पैरों पर किस करने लगा फिर धीरे धीरे पैरों पे सब जगह किस करते हुए उसके घुटनों तक आ गया और किस करने लगा फिर उसकी झांघो को काश के पकड़ के मसलने लगा और फिर उसकी झांघो पर किस करने लगा. फिर थोड़ा ऊपर उसकी चुत तक आ गया और चुत पर हाथ फिरने और फिर पैंटी के ऊपर से ही चुत को चूमने लगा जो की पूरी गीली हो गयी थी. प्रिया मेरे बालों को सहला रही थी और वो उसे पकड़ के खिच रही थी और अहह, मोरीईई, जैसी आवाजें निकल रही थी. फिर मैंने प्रिया की पैंटी उसके घुटनों तक उतार दी और उसकी चुत में उंगली डाल दी और खड़ा होकर उसे बाद की और खिच ने लगा और उसे बेड पर धक्का दे के लिटा दिया.

फिर मैंने उसकी पैंटी खिच कर उसके शरीर से अलग कर दी और अब वो बेड पर पूरी तरह से नंगी लेती हुई थी.अब में उसके मुंह पर उंगली फिरने लगा और धीरे धीरे उसके बूब्स से होते हुए उसकी चुत में अपनी एक उंगली घुसादी और उंगली को उसकी चुत में ही हिलने लगा. प्रिया अब पूरा जोश में थी और मुझे बोली रोहित प्लीज़ यार अब और मुझे मत तड़पा और मेरी चुत में जो आग लगी हे उस आग को बुजदो प्लीज़.

मैनेजर साहिब – Ek Thari Company manager ki kahani – 6

मॅनेजर साहिब – Manager ki real indian sex story (Completed)

<< मॅनेजर साहिब – Ek Tharki Company manager ki kahani – 5मॅनेजर साहिब – Ek Tharki Company manager ki kahani – 7 >>
Content Protection by DMCA.com

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here