मेरी सेक्सी सिस्टर्स कजिन बहनों से रास लीला – Part – 125

0
44

आप जितना कहेंगे मैं आपको उतना दूँगी…

माया:- मैं जितना कहूँ तुम मुझे उतना डोगी….

मेरी आंटी :- जी… अभी के अभी मैं आपको 50 लाख देती हूँ पर आप प्लीज़ किसी से कुछ ना कहें…

माया:- रुक जा आँसू… रुक जा… अगर 50 लाख लेने के बदले मैं तुझे मेरा एक काम करने के 10 क्रोरे रुपये दम तो….

10 क्रोरे का सुनकर मेरी आंटी की आँखें बड़ी हो गयी… वो अचंभे में पड़ गयी…

“मैं कुछ समझी नहीं . आप मुझे पैसे क्यों देंगे..” मेरी आंटी ने अपने जूते आँसू पोछते हुए कहा…

माया:- रुक जाओ…

यह कहकर माया ने कुछ एक दो फोन किया और आधे घंटे में दादा दादी की डेड बॉडीस को साफ करवा दिया.. कुछ लोग बाहर से आए और माया देवी से
50000 के नोटों की गद्दी लेकर दादा दादी को वहाँ से ले गये और पूरा रूम साफ कर दिया…. मैं खड़ी खड़ी यह सब देखती रही… मैं कुछ करने की
हालत में नहीं थी.. कितनी बदनासीन हूँ के आखिरी वक्त पे मैं दादा दादी से बात तक नहीं कर पाई… यह सब सोचते सोचते मेरी आँखों में
फिर से आँसू आने लगे…

“चुप कर मनहूस कहीन्न की.. फिर से क्यों रो रही है…” मेरी आंटी ने मुझे देखते हुए कहा और जाकर माया देवी से बोलने लगी

“बोलिए… आप कुछ 10 क्रोरे की बात कर रही थी…”

माया देवी सोफे पे बैठ गयी…

“सुनो.. पूजा, आँसू… मेरा पास एक प्लान है…..”

दादा दादी की ऐसी हालत मुझसे देखी नहीं जा रही थी… मैंने कभी सपने में भी नहीं सोचा था के उन लोगों का अंत कुछ ऐसा होगा…. रो रो के मेरा हाल बुरा हो चुका था… मेरी आंटी को इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ रहा था के उसने अपने सास ससुर के साथ क्या किया है, पर उसे इस बात का डर था के किसी माया देवी नाम की औरत ने उनकी यह सब हरकतें देख ली हैं… और अब वो उन्हें ब्लैकमेल कर रही हैं….

मेरी आंटी :- माया देवी… भला आप मुझे 10 क्रोरे किस बात के देंगे…

माया देवी:- आँसू… मेरे पास एक प्लान है, जिससे तुम्हारे साथ साथ तुम्हारी बेटी की जिंदगी भी संवार सकती है..

अपना नाम सुनकर मैंने चोकते हुए उन दोनों की तरफ देखा, वो लोग हमारे लिविंग रूम के कोने में पड़े सोफा पे बैठ कर बातें कर रहे थे…

मैं:- देखिए… आप जो कोई भी हैं, मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता उससे.. मेरे पास अब इस घर में रहने की कोई वजह नहीं है, मैं वैसे भी आज ही, बल्कि अभी उस जा रही हूँ… आपका पैसा, आपकी ऐयाशियाँ, सब आपको ही मुबारक…

मेरी आंटी :- सुन पूजा…. अब तुझे वही करना पड़ेगा , जो मैं तुझसे कहूँगी.. समझी… आप फिक्र ना करे माया देवी, पूजा कहीं नहीं जाएगी,
वो यहीं रहेगी, और आपके प्लान में आपका साथ देगी….

माया देवी:- ना… मैंने कब कहा, मेरे प्लान में शामिल होने के लिए पूजा का यहाँ होना जरूरी है…. आँसू, तुम उसे जाने दो वो जहाँ जाना
चाहती है… वैसे भी, इसकी जरूरत हमें कुछ टाइम के बाद ही पड़ेगी…

यह सुनकर मैं वहां से अपने रूम में गयी, अपना सामान उठाया और नीचे आकर टैक्सी बुला ली.. जब तक टैक्सी आती तब तक मैं वहीं बैठे उन लोगों
की बातें सुन रही थी…. माया देवी अपना पूरा प्लान मेरी आंटी को समझा रही थी… कुछ ही देर में टैक्सी का आवाज़ सुनकर, मैं बाहर जाने लगी,
तभी

माया देवी:- सुनो पूजा…. तुम अपनी मर्जी से रही सकती हो, पर अगर तुमने इस बारे में किसी को भी बताया, तो तुम सोच भी नहीं सकती, तुम्हारी
जिंदगी का क्या हश्र होगा…. और तुम्हारे आंटी बाप के साथ क्या हो सकता है….

मैं बिना कोई जवाब दिए, सीधे जाकर टैक्सी में बैठ के अपनी मंजिल की ओर बढ़ने लगी… रास्ते में मैंने कई बार अंकल को फोन करके सब कुछ
बताना चाहा, पर उन्होंने मेरे एक भी कॉल का कोई आन्सर नहीं दिया… अपनी किस्मत को कोसती और अपने आंटी बाप को गलियाँ देती हुई मैं एअरपोर्ट
पहुँची… एअरपोर्ट से भी मैंने कई बार अंकल को कॉल किया, पर कुछ फायदा नहीं… मेरी आँखों के सामने कई बार दादा दादी का चेहरा आ रहा था..

दिमाग में बार बार उनके वो शब्द गूँज रहे थे के वो अपनी आखिरी साँसें वहीं तोड़ना चाहते हैं.. उनकी ख्वाहिश तो पूरी हुई, पर ऐसे होगी,
मैंने कभी सोचा नहीं था… तक हार के मैं अपनी फ्लाइट में बैठ गयी..

आगे क्या हुआ, आप को पता है…

पूजा के मुंह से यह सब सुनकर जहाँ मैं बहुत बारे शॉक में चला गया था, वहीं पूजा की आँखों से आँसू बहने लगे थे…. कुछ देर बाद

मैं:- पूजा, तुम्हें यकीन है उस औरत का नाम माया देवी ही है..

पूजा:- हाँ सन्नी.. मैं कैसे भूल सत्कती….

मेरी सेक्सी सिस्टर्स – कजिन बहनों से रास लीला

मेरी सेक्सी सिस्टर्स कजिन बहनों से रास लीला – Part – 1 >>
Content Protection by DMCA.com

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here