मेरी सेक्सी सिस्टर्स कजिन बहनों से रास लीला – Part – 129

0
56

को” मैंने पूजा को चेतावनी देकर कहा

“भाई… प्लीज़ स्टे आउट ऑफ तीस, ई आम इन फॉर तीस” ज्योति ने पूजा के सामने आते हुए कहा…

मैं इस खेल में किसी का साथ नहीं देना चाहता था, अंजाम में जनता था, इसलिए चुपचाप साइड की कुर्सी पकड़ ली और वेटर को दो पेग सिंगल माल्ट आर्डर किए, नो इसे, नो वॉटर.. जस्ट नीट.

हम कॉर्नर टेबल पे बैठे थे, इसलिए ज्यादा जनता हमें देख नहीं सकती थी… वेटर पहला राउंड लाया… पूजा और ज्योति ने अपने अपने गिलास उठा के पीना चालू किया… दूसरा राउंड, दो पेग और, ज्योति और पूजा ने इसे भी एक दम स्मूद्ली नीचे उतार लिया… दरअसल सिंगल माल्ट सबसे ज्यादा स्मूद होता है, 5 पेग तक किसी को कुछ नहीं लगता, 6त पेग से नशा चढ़ने लगता है, दिमाग सुन होता है, आदमी बादलों में उड़ने लगता है… अभी तो सिर्फ़ 2 पेग हुए थे, असली खेल तो अब तक शुरू भी नहीं हुआ था… तीसरा राउंड और दोनों की दोनों ने पेग खत्म कर दिया था….

“पूजा, थ्ट्स ओके, डोंट भी चाइल्डिश, बस करो यह, मैं नहीं चाहता तुम ज्योति के सामने हर जाओ, यू डोंट नो हेयर” मैं पूजा को समझने लग गया…

“वेटर… रिपीट प्लीज़” पूजा ने सिर्फ़ जवाब में यह कहा…

“ज्योति..क्या यार, तेरा भी कोई मुकाबला है इससे…तू कहाँ और यह कहाँ यार, अब बच्चों के साथ शर्त लगाएंगी तू, तेरे ऐसे दिन आ गये हैं क्या” मैं ज्योति के पास चला गया

“बच्चा या बड़ा भाई, हर किसी को अपनी औकात पता लगनी चाहिए… और आप तो मुझे जानते हो, एक बार मैंने बोल दिया तो बोल दिया…मेरे लफ़्ज़ बंदूक से निकली हुई गोली की तरह हैं…” ज्योति अब पीछे हटने वाली नहीं थी…

मैं शांति से अपनी चेयर पे आकर बैठा और देखने लगा तमाशा… कौन कहता है भाभी और ननद का रिश्ता खाता होता है, यहाँ देखो, दोनों दारू साथ पी रहे हैं , इससे ज्यादा मिठास कहाँ होगी मैं सोचने लगा.. इतने में वेटर आया और उसने दो पेग और दिए, यह था 5त राउंड का सिग्नल… पूजा और ज्योति ने इसे भी हल्के से अपने गले के नीचे उतार दिया… उस राउंड के साथ वेटर मेरा क्रेडिट कार्ड भी ले गया, शायद उसे भी डर था अपनी पेमेंट नहीं मिलने का…

“रिपीट… रिपीट… रिपीट..” बस यही शब्द था जो मैं पिछले एक घंटे से सुन रहा था… देखते देखते पूजा और ज्योति 8 पेग खत्म कर चुके थे…

8 पेग के बाद पूजा की हालत नॉर्मल लग रही थी, माथे पे हल्का सा पसीना था, चेहरे पे वही स्माइल, किलर स्माइल, और उसकी आवाज़ नॉर्मल… दूसरी तरफ ज्योति ने अपने बँधे हुए बाल खोल दिए थे, माथे पे काफी पसीना था… वो कुछ बोल ही नहीं रही थी, उसकी आँखें सुर्ख लाल हो चुकी थी…

“ज्योति, रहने दे यार, एनफ इस एनफ” मैंने तंग होते हुए कहा…

“हाहः… हीईियचह… वॉट हीचह…, अभी तो शुरू हुआ है हाहाहा हिच…” ज्योति ने जवाब दिया…

“रिपीट प्लीज़… तीस टाइम मेक तीस 90 म्ल प्लीज़” पूजा ने आर्डर दिया… 90 म्ल मतलब तीन पेग एक साथ..

“पूजा, आर यू नट्स, बंद करो अब प्लीज़”

“ओह हो मिस्टर वीरानी, और सिस इस लूज़िंग, तभी क्या… नहीं, एनफ सुन लिया मैंने, इसके ताने सुन सुन के आज मेरी बड़ी है इसे जवाब देने की” पूजा ने अपनी नॉर्मल आवाज़ में कहा..

वेटर दो पेग और लाया… सॉरी, 6 पेग लाया दो गिलास में..

“वॉट थे हेल हाँ… तू समझती क्या आअहज्चह मुझे हन्णन्न्…”ज्योति ने इतना कहा और पेग नीचे… दूसरी तरफ पूजा ने आराम से पेग नीचे उतरा और मुझे आँख मारती हुई बोली

“डोंट वरी मिस्टर वीरानी…तुम्हारी शादी बेवड़ी से नहीं, फाइटर से हो रही है.. प्लीज़ स्माइल ओके”

यह सुनकर मैंने ज्योति की तरफ देखा तो शी वाज़ आउट… नॉक आउट, नॉक डाउन, ब्लोन आउट… जो बस कहो… उसके बँधे हुए बाल खुल चुके थे, उसका स्कार्फ ढीला हो गया था, उसकी आँखें आउट…ई मीन लाल, शब्द संभाल नहीं रहे थे, तो खुद को क्या खाक संभालती…

“रेप्ेअटततटटटटटटटटटटटटटटटटटटटटटटटतत्त……….” बस ज्योति ने इतना ही कहने के लिए उठी के धदामम्म्ममममम…. इस आवाज़ के साथ ज्योति नीचे गिर गयी… वो शर्त हार चुकी थी… पूरा का पूरा क्राउड बस हमें ही देख रहा था… मैंने जैसे तैसे करके पूजा को मनाया के वो ज्योति को उसके होटल तक चोदने चलें, पूजा के मानने के बाद मैंने उन्हें कॅब में जाने को कहा, और मैं बिल भरने गया…

“15000 ” यह सुनकर होटल वाला भी मुझे घुरके बोलने लगा..

“सर… 24 पेग्स ऑफ सिंगल माल्ट आरेंट चीप..बिसाइड्स डेठ वाज़ थे बेस्ट ऑफ थे लॉट… बिकॉज़ ऑफ युवर क्वांटिटी, यू हॅव रिसीव्ड डिसकाउंट आस वाले”

मेरे बाप के क्रेडिट से पहली पेमेंट उनकी बहू की विस्की….

मेरी सेक्सी सिस्टर्स – कजिन बहनों से रास लीला

मेरी सेक्सी सिस्टर्स कजिन बहनों से रास लीला – Part – 1 >>
Content Protection by DMCA.com

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here