दीदी की चुदाई – Didi ki chudai

6
197647

दीदी की चुदाई – Didi ki chudai

पहले मैं आपको मेरे बारे में कुछ बताता हूँ, में 20 साल का हूँ और में +3 2न्ड एअर का स्टूडेंट हूँ.ये मेरा पहला रियल स्टोरी हैं, करीब 2 साल पहले मेरा बड़ा भाई का मेरीज हुआ ,और हमारे घर में हमारे बहुत रिलेटिव लोग आए थे.
भाई का शादी का बाद उसका रिसेप्षन हुआ मतलब खाना पीना ईवनिंग को हुआ खाने पीने के बाद हमारे रेलेटिवे लोग सब आपने आपने घर को चले गये, मेरे भाई के शादी में मेरे दूर की रहने बेल मेरा एक आंटी भी आई थी उनकी एक 18 साल की बेटी भी आई थी उनकी बेटी का नाम प्रिया थी.में उनको प्रिया दीदी कहकर बुलाया करता था. वो उस दिन रात को घर नहीं जा सकी कारण उनका घर हमारे घर से करीब 200 किलोमीटर दूर था रात भी काफी हो गई थी इस लिए मेरी मां ने आंटी को कहा संगीता तुम आज रात को हमारे घर में रही जाओ सुबह चली जाना. तो मेरा आंटी ने बोली ठीक है.लेकिन शादी के कारण हमारा बहुत सी दूर की रिश्ते डर जो आए थे घर में सोने ;के लिए घर में जगा नहीं थी सिर्फ़ एक ही बेड था और बेड पर सब सो गये थे तो आंटी ने बोली संजय तुम प्रिया के साथ बेड पर सो जाओ में और तुम्हारी मम्मी नीचे सो जाते हैं,मैंने ड्रेस चेंज कर सोने के लिए बाद पर आ गया,तो प्रिया दीदी ने चेंज कर के बेड पर सोने के लिए आ गये.प्रिया दीदी और में बेड पर लेट कर बहुत सारी बात करने के बाद कब हमारे आँख लाग गयी की हमें पता नहीं चला..रात को करीब 1:30 आम पर मैंने महसूस किया के कोई मेरे पैंट के उप्पर हाथ राख कर मेरे लंड को सहला रहता.
मैंने धीरे से आंख खुल कर देखा तो प्रिया दीदी ने मेरे लंड को पैंट के उप्पर से सहला रही थी. मैंने ये देख कर एक दम चौंक गया और बहुत खुश भी हो गया क्यों की मेरा भी इंटरेस्ट था प्रिया दीदी के साथ सेक्स करने के लिए क्यों की वो दिख ने में बहुत सेक्सी थी उसकी ब्रेस्ट 36 का था और उसकी गान्ड भी बहुत बड़ा था. तो मैंने जब देखा की प्रिया दीदी ऐसे कर रही थी तो मुझसे रहा नहीं गया मैंने सोचा में भी कुछ करूँ तो मैंने झट से करवट बदल ने लगा ये देख कर प्रिया दीदी ने नर्वस हो कर मेरे लंड को चोद दीया और सोने की ऐक्टिंग करने लगी. करीब 15 मिनट के बाद मैंने अपना
काम शुरू किया मैंने पहले मेरे हाथ को धीरे से प्रिया दीदी की कंधे पर हो कर उनके टॉप के ऊपर से उनकी ब्रेस्ट के ऊपर हाथ रख दिया और धीरे धीरे मसलना शुरू किया तो अचानक प्रिया दीदी ने मुझको ये करने नहीं दिया वो मेरे हाथ को काश कर पकड़ लिया ओर में मेरे हाथ को हिला नहीं पाई कुछ देर के बाद प्रिया दीदी ने मेरे हाथ को आपने आप उनकी टॉप की अंदर घुसा दिया मैंने ये देख कर बहुत खुश हो गया तो मैंने ये सोचा के प्रिया दीदी भी मुझसे सेक्स करने लिया इंटरेस्ट है तो मैंने खुश हो कर झट से उन के बाड़ी बड़ी ब्रेस्ट को मसलना शुरू किया यार क्या बताऊं वो ब्रेस्ट था या लोहे का बॉल .
क्या ब्रेस्ट था यार.मैंने काश कर मसला उनके ब्रेस्ट को मेरा मसल ने पर उनकी मुंह से आवाज़ आ रही थी सीईइ कुछ देर मसल ने के बाद मैंने धीरे से मेरा हाथ को धीरे धीरे नीचे लेने लगा और धीरे से उनके स्कर्ट को ऊपर तक कर धीरे से हाथ घुसने लगा मैंने देखा की वो के वाइट कलर ली पैंटी पहनी थी .तो मैंने धीरे से आपने हाथ को उनकी पैंटी के ऊपर से सहलाया तो मैंने महसूस किया की उनके पैंटी के अंदर में कुछ मोटी चीज़ है तो मैंने उनके पैंटी अंदर हाथ घुसाया तो देखा की एक वाइट सी स्पॉंज उनकी चुत के उप्पर बंदी हुई थी तो मैंने जब उस चेज़ को छूने की कोशिश किया तो दीदी ने झट से उठ कर मेरे हाथ पकड़ लिया और कहने धीरे से कहने लगी उसमें हाथ मात लगा तो मैंने पूछ आ क्यों उसने बोली तेरा हाथ गंदा हो जायगा ,खूनकि मेरा मेनसे डेट चल रहा है.दीदी ने बोली काल हाथ घुसाएगा काल मेरा डेट खत्म हो जाएगा.तब मैंने कुछ समाज नहीं पाया.फिर मैंने अपनी हाथ को दीदी के ब्रेस्ट में डालकर मसल ना लगा और एक हाथ से आपने हाथ को हिला हिला कर पानी निकालती और सो गया .
सुबह में उठा और उठ कर देखा की प्रिया दीदी नहा कर फ्रेश हो कर बालकनी में खड़ा है .मैंने भी फ्रेश हो कर आया तो सुना की आज स्ट्राइक यह .प्रिया दीदी घर को नहीं जा पाएगी स्ट्राइक के कारण कोई बस नहीं चल रही थी ये सुन कर में बहुत खुश हो गया . कुछ समय बाद हाँ लोग नाश्ता किया और टीवी देख ने लग गये .कुछ देर के बाद प्रिया दीदी ने बोला क्यों संजय काल रात को आपने दीदी के साथ क्या कर रहे थे.मैंने शर्मा के बोला पहले दीदी आप मेरे साथ कर रहे थे .दीदी ने बोला जो हम लोग काल रात को किया वो किसको नहीं पटना बताईयो मैंने बोला नहीं दीदी किसी को नहीं बताऊंगा.मैंने देखा की उसकी स्कर्ट कुछ ऊँची उठी हुई थी ओर चुत कई बॉल नज़र आरे थाई क्यों की उसकी पैंटी उसकी चुत की फांकों मैं फँसी हुई थी.
यह देख कर तो लंड फनकारे मारने लगा,जिसे मैं अपनी निक्कर सही निक्काल लिया ओर मूठ मारने लगा,प्रिया दीदी छुपी नजारे सही यह सब देख रही थी,शर्म नहीं आती वो बोली,किस बात की शर्म कितनी बार देखा है तुमने मैं बोला.एक बार चुत मैं लाई कर देख रोज़ कहेगी संजय चोदा मुझे मैंने कहा ओर उठ कर उसके पास आ गया ओर किस करने लगा ओर उसकी चुत मैं उंगली डाल दी,पहले तो छटपटाई,पर चुत मैं पूरी उंगली गई ओर हॉल्ली तो उसको मजा आने लगा ओर वो नज़दीक आने लगी.मैंने अपना लंड उसको पकड़ा दिया ओर वो उसको सहलाने लगी,हिलाते हुआ लंड मैं कुछ पानी निकला ओर वॉः चिकना हो गया,इधर उंगली चुत मैं अपना पूरा काम कर रही थी ओर वो दो बार झाड़ चुकी थी,तब मैंने अपना लंड उसको चूसने को कहा,बोली ना मैं यह नहीं करूंगी,मैंने समझाया की एक बार इसको चूस फिर बताना की कैसा है ओर मैंने उसको नंगा कर दिया ओर आप भी नंगा हो गया.
मैंने उसकी चुत पर अपना मुंह रख दिया ओर अपनी जीभ उसकी चुत मैं डाल दी ऊऊहहा राजकुमार प्लीज़ मत करो कुछ हो रहा है,पर मैं कहा मैंने वाला था,उसकी चुत चाटने लगा ओर वो पागल सी हो गई तब मैंने कहा अब तो लंड को चूस लो बहुत मजा आई गा ओर लंड को मुंह मैं डाल दिया ओर चुत की चूसा जारी रखी.यह क्रम की 10 मिनिट्स चला ओर मेरा लंड उसके मुंह मैं झड़
गया,पर उस नहीं सब बाहर निक्कल दिया.हम कुछ देर बाद फिर तैयार हो गई ओर फिर सही लंड उसके मुंह मैं डाल दिया.5मिन्स बाद उसकी चुत पर लंड रख कर धक्का दिया ओर उसकी चुत फॅट गई ओर चिल्ला पड़ी ऊओाआ मैं मर गई प्लीज़ इसको बाहर निक्कल लो संजय,तभी एक धक्का ओर दिया ओर लंड पूरा अंदर.
वो रोने लगी क्यों की चुत मैं दर्द तो हो ही रहा था ओर खून भी निकल आया था,कोई 5 मिनिट्स बाद उसकी चुत जारी ओर मेरा लंड आसानी सही अंदर बाहर होने लगा,अब उसको भी मजा आने लगा ओर वो सहयोग करने लगीबाइया बहुत मजा आ रहा है अब ज़रा ज़ोर सही चोदा आआ हहूओ करो नाआअ प्लज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़ फ़रो मेरी चुत को.हम पूरी तरह मज़ई लाई रहे थाई छोटी वाली जगह गई.मेरा लंड झड़ने वलन था मैं ज़ोर ज़ोर सही चुत मैं लंड हिल्ला रहा था,उसकी परवाह ना करते हुआ उसके सामने चुदाई जारी रखी.लंड झड़ने कई बाद ही निक्काला इस समय प्रिया दीदी ने .बोली राजकुमार प्लीज़ एक बार मेरे चुत को दुबारा चोदा ना प्लज़्ज़ोर लंड को मुंह मैं डाल कर लगी चूसने.उस दिन हम तीनों नहीं खूब एंजाय किया.

दीदी की चुदाई – Didi ki chudai

6 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here