भाभी जी घर पे हैं? – Adult Sexy version

0
36924

मैं 26 साल का लड़का हूँ देखने में काफी हॉट हूँ, मुझे चुदाई करना बहुत ही अच्छा लगता है, आज मैं आपको एक बड़ी ही हॉट कहानी सुनाने जा रहा हूँ. तो अब आपका समय बर्बाद ना करते हुए सीधे कहानी पे आता हूँ.

मैं एक प्राइवेट फर्म में इंजीनियर हूँ मेरी फर्म में बहुत से एमलोईस काम करते थे उनमें से एक रवि ने मुझसे काफी ज्यादा मेल जोल बधने की कोशिश की और उसके बेटे के जन्मदिन पर मुझे अपने घर इन्वाइट किया.. मैं जब उसके घर पहुंचा उसकी बीवी में दरवाजा खोला वो बहुत ही ज्यादा ब्यूटिफुल लग रही थी उसका फिगर बहुत ही मस्त थी.. उसे दिन तो वो गजब की लग रही थी क्यों वो वो पारदर्शी सारी पहनी हुई थी. क्या बताऊं उसको देखते ही मेरा लंड काफी टन गया था, मेरा लंड सलामी लेने लगा.

मैं हौले से उससे रवि के बारे में पूछा तो उसने बताया के रवि जी अंदर ही हैं.. तभी उसका पति आया ओर हम सब अंदर चले गये.. थोड़े देर बाद हमने खाना खाया और कुछ इधर उधर की बातें की.. मैं बार बार भाभी जी ग की मस्त मस्त गान्ड और मस्त मस्त बूब्स को ही देख रहा था उन्होंने एक दो बार मुझे देखते हुए कई सारे सपने बैठ बैठ ही देख लिए.

थोड़ी देर बाद मैंने उन्हें घर जाने के लिए बायें बोला ओर मैं अपने फ्लैट पे आ गया.. ये भाभी जी से मेरी पहली मुलाकात थी.. लेकिन मैं दिन फिर दूसरे उसी के बारे में सोचता रहता था.. कुछ दिन बाद उसके पति ने मेरी फर्म से नौकरी छोड दी और दूसरे जगह में नयी जॉब लग गई , उसे वहाँ अकेले ही जाना था.. रवि नहीं जॉब पे चला गया..

एक दिन शाम को रवि का कॉल आया ओर उसने बताया के उसकी वाइफ की तबीयत खराब है और उसने मुझसे उसके घर जाने की रिकवेस्ट की.. मैंने हाँ कहा ओर उसके घर के लिए निकल पड़ा , उसका अगर मेरे फ्लैट से बीस मिनट की दूरी पे था..

मैंने रास्ते से भाभी जी के लिए फ्रूट जूस ओर रवि के बच्चों के लिए कुछ चॉकलेट लेली.. उसके घर जाकर मैंने भाभी जी का उनका समाचार पूछा उन्हें सर दर्द था ओर हल्का बुखार था.. भाभी जी ने रेड कलर की नाइटी पहनी थी ओर बहुत सेक्सी और हॉट लग रही थी.. पहले मैं पास के एक मेडिकल स्टोर से डे लेकर आया ओर उन्हें दी..

थोड़ी देर बाद उन्हें कुछ अर्रम महसूस हुआ.. मैं उनके पास बैठा था ओर टीवी देख रहा था उनके बचे भी टीवी देखते देखते वही सो गये.. उन्होंने मेरी हेल्प से बच्चों को उठा कर रूम में सुलाया , इसी बीच मेरा हाथ उनके बॉडी से टच हुआ तो मुझे अच्छा लग रहा था.. अब भाभी जी ओर मैं फिर से टीवी देखने लगे.. मैं टीवी को कम ओर भाभी जी को ज्यादा देख रहा था.. मैंने भाभी जी से कहा के मैं आपका सर दबा देता हूँ आपको आराम मिलेगा.. भाभी जी आनाकानी करते हुए मान गयी.. भाभी जी सोफे पे लेती हुई थी

मैंने भाभी जी का सर दाना शुरू किया, उन्होंने आँखें बंद कर ली थी.. अब मैं भाभी जी की मस्त शरीर को देख रहा था.. भाभी जी की चूची उठी हुई थी ओर भाभी जी की गोरी गोरी टांगे भी दिख रही थी , पेंट के अंदर मेरा लौंडा फंफना रहा था.. भाभी जी का सर दबा दबा मैं भाभी जी की गर्दन तक पहुंच गया ओर उनके कंधे भी दबाने लगा भाभी जी को अच्छा लग रहा था ओर वो आँख बंद करके लेती हुई थी.. मैंने आन उनको चोदने का मान बना लिया था.. अब मैं कंधों से नीचे भाभी जी की छाती की तरफ बड़ना चाह रहा था मैंने डरते हुए भाभी जी के बूब्स पे हाथ रख दिया लेकिन भाभी जी ने कोई रिएक्शन नहीं दिया तो मैं समझ गया ये भी चुदना चाहती हे मुझसे.. अब मुझे ग्रीन सिग्नल मिल चुका था ओर मेरा लौंडा बाहर आने के लिए तड़प रहा था..

मैंने भाभी जी के बूब्स को अब सहलाना शुरू किया.. उनके चुचियाँ बड़ी ही मस्त सॉफ्ट था.. क्या बताऊं दोस्तों भाभी जी आँखें बंद करके मजे ले रही थी.. अब मैंने भाभी जी की दोनों बूब्स को कसके पकड़ ली ओर उनके होठों पे होंठ रख के किस करने लगा , भाभी जी ने किस्सिंग मेरा साथ देना शुरू कर दिया ओर मुझे मजा आने लगा ओर मैंने भाभी जी की नाइटी में हाथ डालकर भाभी जी की दोनों चुचियाँ पकड़ ली ओर दबाने लगा.. भाभी जी के साथ मैंने कुछ ही मिनिट्स किस किया ओर फिर भाभी जी की नेक पे किस करने लगा मदहोश हो रही थी और ज़ोर ज़ोर से सिसकियां ले रही थी..

मैंने भाभी जी की नाइटी उतार के फेंक दी , आन वो सिर्फ़ ब्रा & पैंटी में मेरे सामने थी मैंने भी मेरे कपड़े उतार दिए ओर सिर्फ़ आंडरवेयर में उनके ऊपर लेट गया.. मैंने उनको उल्टा लेटाया ओर भाभी जी की कमर पे किस करने लगा.. ऊपर लेते हुए मेरा लौंडा उनके कुल्हो के बीच में रगड़ रहा था ओर उन्हें मजा आ रहा था..

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here