मेरी पड़ोसन शीतल

0
5590

दोस्तों मैंने आज तक बहुत सारी सेक्स स्टोरीस पढ़ी है,उन में बहुत ही थोड़ी रियल स्टोरीस होंगी.मैं आज आपको मेरे एक बात बांटने जा रहा हूँ जो सिर्फ़ मेरे और शीतल को ही पता है. शीतल मेरे पड़ोस मैं रहती थी.जब वो अपने फॅमिली के साथ यहां रहने आए तब मैं 18 साल का था फर्स्ट एअर में पढ़ता था.

शीतल मूज़से 6 साल बढ़ी थी और वो में.से.सी फाइनल एअर में थी.वो 24 साल की थी. थोड़ी ही दीनों में उसकी फॅमिली हमारे साथ घुल मिल गयी थी.शीतल भी हमारे घर रोज आया करते थी.मेरे कज़िन ब्रदर और सिस्टर छुट्टी के दीनों में हमारे घर आए थे और मैं ,कज़िन्स और शीतल रोज करम और पत्ते खेलते थे.एक दिन मेरे घर वाले शादी के लिए दूसरे शहर चले गये. मैं और मेरा कज़िन दोनों ही घर पे थे.शीतल ने मां से कहा था की वो हमारा ख्याल रखेंगी और खाना भी बना देंगी. वो रात में मेरे घर आए और बोली की आज मैं रात में यहां पे ही रुकना चाहती हूँ.हम बहुत सारी बातें करेंगे और तुम मुझे कोम्पटेर के बारे में थोड़ा नालेज देना.

मैंने खुश हो की कहा “हां शीतल आज हम बहुत सारी बातें करेंगी और मस्ती करेंगे” फिर उसने कहा की “अभी प्लीज़ मुझे खाना बनाने में थोड़ी से हेल्प कर दो”.मैं रसोई में उसे हेल्प करने लगा.वो नाइटी में बहुत ही सेक्सी लग रही थी.उसकी फिगर 34-26-34 थी.उसके लंबे बाल खुले चोदे हुए थे .जब वो आता बुन ने लगी तो शीतल के बाल उसके चेहरे पे आ गये.उसने मुझे से कहा “अभी प्लीज़ मेरे बालों को सवार दो”.मैंने चान्स देख कर बाल ठीक करते टाइम उसके बॉडी को टच कर लिया,उसने मेरे तरफ देखते हुए हंस दिया और बोली”तुम तुम्हारे बीबी को खुश राहोंगे क्यों की तुम बहुत अच्छी तरह हेल्प करते हो रसोई में”.मैंने कहा “शीतल अगर मुझे तुम्हारे जैसे बीबी मिली तो मैं रोज पूरा खाना पक्का दूँगा”.उसने मेरे तरफ घूर के देखा उसके अखून में अलग की नजाकत थी.उसने मुझे पूंचा की “क्यों मुझे मैं ऐसे क्या खास बात है?” मैंने कहा तुम बहुत सेक्सी और ब्यूटिफुल लड़की हो”.वो गुस्से में मुझे बोली की चलो बातें बस हो गयी अब खाना खाने चलो.मैं तब चुप रही गया. बाद में खाना होने के बाद मैं मेरा कज़िन ओर शीतल बतेऊन करते बैठे थे.

मैंने कॉलेज ज़गदे के बारे में उन्हें बताया और मैंने एक लड़के को कैसे पिता यह बताया.मेरे कज़िन ने मुझे कहा की भैया आप में कितने तकड़ है आप डीकाओ”क्या आप मुझे एक हाथ से उठा सकते है?”.”मैंने कहा क्यों नहीं अभी दिखता हूँ”मैंने उसको एक ही हटथ में उठा के दिखया.तब शीतल हंस के बोली के “अभी वो तो छोटा बच्चा है,अगर तुम मुझे उठा सकते दोनों हटो से तो मैं सच मनुगी “मैं आगे बढ़ा और उसको सामने ने उठा लिया उसके मुंह से आवाज़ निकले”श..अभी मैं गिर जौंगे”मेरा चेहरा उसके बूब्स में दबा था आज पहले बार मुझे किसी लड़की के शरीर को इतने क्लोज़ जाने का मौका मिला था.मैंने उसको और काश के पकड़ लिया और उसके सॉफ्ट और जुसी बूब्स के मजा लिया.एकदम से हमारा बैलेन्स चला गया और हम सोफे पे जा के गिर गये .मैं शीतल के ऊपर गिरा था ,मेरा पूरा व्ट उसके ऊपर था ,उसके गाउन के स्तनों मेरे शर्ट में उलाज़ गये थे .एक मिनट हम वैसे ही पड़े रहे.

शीतल भी बहुत एक्सटेड हो गयी थी और उसकी छाती ज़ोर से धड़क रही थी उसके गरम सांसें मैं महसूस कर सकता था.मैंने अपना एक हटथ उसकी टाइट्स पर रख दिया था .मेरा लंड खड़ा रही गया और शीतल की भी उसका अहसास हो गया था.जब उसको मेरे कौसी का ख्याल आया तो वो बोली”अभी मैं मर जाऊंगी प्लीज़ जल्दी उठो”और वो गाउन के स्तनों छुड़ाने की कोशिश करने लगी,उस में 3 स्तनों खुल गये और मैंने उसके 34 द बूब्स देखे.मैं अपने होश खो गया .बाद मैं हम वहां से उठे.मेरा कज़िन सोने के लिए चला गया. अब मैं और शीतल मेरे रूम में कंप्यूटर चालू कर के बैठ गये.

कुछ देर हम दोनों चुप थे. वो मेरे तरफ अलग ही नज़र से देख रही थी और मैं उसी आंखें नहीं मिला पा रहा था.शीतल मेरे पास सरक के बैठे और बोली”अभी क्या किसी लड़की को चाहते हो?”मैंने कहा “नहीं”उसने उसके हाथ मेरे टाइट्स पे रखते हुए पूंचा”मुझे भी नहीं अभी….?” मैंने कहा “हां शीतल मैं तुम्हें बहुत पसंद करता हूँ,पर तुम मुझे से बड़ी हूँ इसलिए हम शादी नहीं कर सकते”उसने मुझे अपने बाहों में भर लिया और उसके लाल और गरम ओत मेरे ओातून पे रख दिए.उसने कहा “अरे पागल हम शादी नहीं कर सकते पर वो सब कर सकते है जो एक पति पत्नी शादी के बाद करते हैं”मैंने पूंचा “शीतल क्या यह अच्छी बट्ट है?” उसने मुझे कहा”इसमें कोई बुरी बट्ट नहीं है “मैं थोड़ा सा शर्मा रहा था.वो बोली”श शाइ बॉय मुझे तुम्हारा शरमाना बहुत अच्छा लगता है पर क्या सारी रात ऐसे ही गुजरने है या कुछ करना है?” मेरे हिम्मत तरफ गयी मैंने दरवाजा बंद किया और शीतल को अपने बाहों में भर लिया.मैंने उसके सारे बदन को किस करना शुरू कर दिया.मैं उसकी दोनों ब्रेस्ट बाहर से मसल रहा था शीतल के मुंह से निकला”श अभी प्लीज़ धीरे करो ना “मैंने उसके गाउन के स्तनों खोल दिए और अब वो मेरे सामने सिर्फ़ ब्रा और पैंटी में खड़ी थी.उसने ब्लैक कलर की ट्रॅन्स्परेंट ब्रा पहने थी.

मैंने उसका हुक खोल दिया.उसने मेरे शर्ट और पेंट भी अपने हॅटन से उतरा डीएमआयने उसे बेड पर लेता दिया और उसके बूब्स को ज़ोर से दबाने लगा .मैंने उसका रेड निप्पल ओठों मैं पकड़ लिया और चूसने लगा.मैंने उसके निपल्स को डातों से हल्का सा काट दिया.एक सिसकारे उसके मुंह से निकले”अहह…अभी में बेबी बहुत ही मजा आ रहा है क्या सब कहा जौंगे?”फिर वो मेरे ऊपर आ गयी और मेरे चेस्ट पर किस करने लगी,वो उसके हाथ मेरे कर्ली हेयर्स में फिरा रही थी.मैं मेरे हाथ उसके बेक साइड पर और उसके सेक्सी हिप्स पर फिरा रहा था.फिर वो मेरे कोन में बोली”अभी अब मैं पूरे तरह तुम में समा जाना चाहते हूँ” और मैं उसके ऊपर चढ़ गया .मैंने उसके योनि के ओातों खोल दिए और मेरे लंड उसमें एंटर कर दिया.उसने मुझे अपने बाहों में काश से पकड़ लिया.

मैं अपने हिप्स ज़ोर से हिला रहा था और वो भी अपने हिला के मुझे पूरा साथ दे रही थी.उसके मुंह से सेक्सी आवाज़ आ रहे थे”उईए मां ..आ…मैं मर गये.अभी कितने ज़ोर से हिला रहे हो थोड़ा प्यार से करो”मैंने अपने बढ़ता कम कर दे.अब शीतल को ज्यादा मजा आ रहा था और वो बोली “अभी थोड़ा ज़ोर से करो अब मुझे बहुत मजा आ रहा है”और ज़ोर से.मेरे लंड को उसके योनि के दीवारूण का अहसास हो रहा था. उसके योनि बहुत ही फिट थी और मैं मेरा लंड ज़ोर से आगे पीछे कर रहा था ,लंड उसके वजह से रगड़ा जा रहा था और मुझे बहुत मजा आ रही थी. ससस्स…………………………… आ…………. उमन्णननननननननननणणन् उसने मेरे मुंह उसके ब्रेस्ट में दबा लिया और मेरे बॉल काश के पकड़ लिए.हम अब कहरम सीमा पर थे और एकदम से मेरा सारा लंड मैंने उसकी चुत मैं खाली कर दिया था.

हम कुछ देर एक दूसरे की बाहों पे पड़े रहे.मैंने पूरी तरह अपने आप को छोटे बच्चे की तरह शीतल के हवाले कर दिया था.वो भी मुझे चूम रही थी और सहला रही थी.मैंने उस्सी कहा “शीतल तुम ने मुझे आज तक का सब से बड़ा सुख दिया है,ई लव यू शीतल” वो अपने हाथ की उंगलियां मेरे बालों में फिरते ते हुए बोली”अभी मैं तुम्हें हमाशे से पसंद करती हूँ और प्यार करती हूँ,तुम जब चाहो मुझे माँग लेना मैं दे दूँगी “उस रात हम ऐसे ही एक दूसरे की बाहों एक दूसरे को प्यार करते हुए पड़े रहे….

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here