Naukrani ki chudai – पूजा – हमारी प्यारी नौकरानी

0
4124

Naukrani ki chudai – पूजा – हमारी प्यारी नौकरानी

वो हमारे यहां कई सालों से काम करती थी और बहुत ही अच्ीी थी. मेरी उनके बारे मैं कभी गलत सोच नहीं थी. इंजीनियरिंग मैं वैसे भी मैं ज्यादा क्लासस अटेंड नहीं करता था और दिनभर पीसी के सामने गेम्स खेलता और पॉर्न देखते रहता था. आंटी दोपहर को 2 बजे आती…घर का काम 1-2 घंटे मैं खत्म करके चली जाती. यही रुटीन था.

हमेशा के जैसे एप्रिल के मंथ में आंटी आई और अपना काम करने लगी. एप्रिल का मंथ था इसीलिए मेरी स्टडी लीव चल रही थी और में घर पे ही था. काम खत्म करके आंटी जाते वक्त बोल गयी की वो अपने किसी रिलेटिव की शादी में जानेवाली है और 2 हफ्ते तक उनके बदले उनकी कोई पड़ोआन आकर काम करेगी. आंटी ने मुझसे कहा की ये बात मम्मी को बता देना. मैंने भी ठीक है कहा और आंटी चली गयी. शाम को जब मम्मी आई तब मैंने मम्मी को बता दिया की आंटी क्या कह गयी. मम्मी ने मुझसे उस नहीं नौकरानी पे ध्यान रखने के किए कहा क्योंकि बहुत ख़बरे आ रही थी की मेड्स चोरी कर रहे है आज कल.

तो नेक्स्ट डे मैं अपने पढ़ाई मैं लग गया. दोपहर तक पढ़ाई कर ली और फिर सोचा की लंच के पहले कोई पॉर्न देख लू. पॉर्न देखकर मस्त हिलाया और बहुत मजा आया. फिर मैंने लंच किया और सोने जा रहा था की घर की बेल बाजी. मैंने सोचा वो नहीं मैड होगी और मैं दूर खोलने लग गया. वहां मैंने एक अराउंड 5 फीट की बंदीी को देखा. शी वाज़ यंग और चब्बी. ई मीन उसका फेस बहुत चब्बी था विद नाइस चीक्स. और 1 बात जो बहुत स्ट्राइकिंग थी उसके बारे मैं वाज़ हेयर दूध (बूब्स). बहुत ही बारे थे. उसने एक लाइट पिंक कलर का सलवार कमीज़ पहना था और वाइट रंग की ओढ़नी थी. मैंने उससे पूछा कौन. तो उसने बताया की उसका नाम पूजा है और वो आंटी के बदले मैं 2 वीक्स के लिए काम करेगी हमारे घर पे. मैंने कहा ठीक है और उसे अंदर बुला लिया. उसने मुझे एक स्माइल दी और अंदर आ गयी.

मैंने उससे बता दिया की क्या क्या काम करने है और कौनसा सामान कहा रखना है. हम दोनों की उमर लगभग सेम ही थी तो मैं उससे ऐसे ही बातें करने लग गया और देख भी रहा था की वो क्या कर रही है क्योंकि मम्मी ने मुझे उस पे ध्यान रखने के लिए कहा था. बातों बातों में पता चला की वो आंटी की नेबर की बेटी है, और वो घर पर ही रहती है. ऐसे ही वो काम कर रही थी और मेरे साथ बातें भी कर रही थी. फिर वो पोछा करने के लिए आ गयी और मुझसे बेड पे बैठने के लिए कहा. उसने अपनी ओढ़नी हटा ली और अपने कमर पे बाँध ली और पोछा करने लग गयी. मैं तो उसकी और ही देख रहा था बातें करते वक्त .

जब भी वो झुकती उसके बारे बूब्स और बारे दिखते और उसका क्लीवेज भी दिख जाता. उसको ऐसे देखकर मेरा लंड खड़ा होने लग गया था. और मैंने हल्के से अपना हाथ अपने लंड पे रख दिया और धीरे से सहला रहा था. पूजा का तो अपने काम और बातों में ध्यान था और उसको इस बात का कुछ पता ही नहीं था. उसका काम खत्म हो गया और वो मुझे बोलकर निकल गयी घर से. पूजा के बूब्स देखकर मैं तो पागल हो गया था. जैसे ही वो घर से गयी, मैंने अपने कंप्यूटर पे पॉर्न लगाया और हिलाने लगा पूजा को इमॅजिन करके. मुझे बोहाट ज्यादा मजा आया. फिर मैं सो गया.

ऐसे ही और दो दिन बातें, पूजा रोज़ आती मुझसे ढेर सारे बातें करती और मैं उसके बूब्स को देखकर खुश होता. तीसरे दिन मैईने देखा की प्पूजा ने मुझे उससे देखते हुए नोटिस कर लिया, पर उसने कुछ नहीं कहा और स्माइल दे दी. मैं इससे बहुत आक्साइड हुआ और उसके सामने ही ज़ोर ज़ोर से अपना लंड दबाने लग गया. पूजा अपना काम जल्दी जल्दी करके वहां से चली गयी.

नेक्स्ट डे मैंने सोचा की पूजा को तो पता है की मैं उससे देखता हूं और फिर भी वो कुछ नहीं बोलती, मतलब उसको भी शायद मुझमें इंटेरस्ट हो. यह सोचकर मैंने प्लान किया. जैसे ही पूजा आई मैंने दरवाजा खोला और बिना उससे कुछ बात करे अंदर अपने बेड मैं चलेंगे. पूजा को थोड़ा अजीब लगा होगा. इसलिए वो सीधा काम स्टार्ट ना करके मेरे पास आ गयी बेड मैं. उसने मुझसे पूछा क्या बात है, आज बातें नहीं करनी है क्या. मैंने कहा यार मेरा सर बहुत दर्द कर रहा है. असल मैं मुझे कुछ नहीं हुआ था, मैं तो बॅस पूजा को अपने पास लाना चाहता था. जैसे मैं एक्सपेक्ट कर रहा था, पूजा ने ठीक वही कहा. उसने मुझसे बोला क्या हो गया लो मैं तुम्हारा सर थोड़ा दबा देती हूं. इतना कहकर उसने मुझसे पूछा की बाम कहा रखा है और बाम लेकर मेरे सर के पास मेरे बेड पे बैठ गयी.

पूजा ने अपने मुलायम हाथों से बाम निकाला और मेरे माथे पे लगाने लग गयी. जैसे ही वो लगाने लग थी, मुस्के बूब्स मेरे मुंह के पास आ जाते. ऐसे 2-3 बार हुआ अगली बार जब ऐसे हुआ, मैंने जान बूझकर अपनी टंग उसके बूब्स पे लगा दी. उसने मेरी और देखा और कहने लगी, अब कैसा लग रहा है तुम्हें. मैंने कहा इतने जल्दी क्या होगा. थोड़ा अच्छे से बाम लगावगी तब ना असर होगा. वो भी बात समझ गयी और बाम लगाने से ज्यादा ध्यान उसका अपने बूब्स मेरे फेस के पास ले जाने में था. मैं समझ गया था की पूजा भी गरम हो चुकी है. अगली बार जब वो पास आई तब मैंने उसके बूब्स को काअट लिया.

पूजा ने सिसकारी भारी और कहा. तुम शायद ठीक हो गये हो और हंसने लग गयी. मैं समझ गया था की पूजा भी यही चाहती है और मैंने उसको अपने ऊपर खींच लिया. उसके लंबे बाल मेरे चेहरे पे थे और वो मेरे ऊपर थी. मैंने उसका फेस अपने हाथों में पकड़ा और कहा पूजा तुम बहुत सुंदर हो. उसने अपने आँखें बंद कर ली और अपने होंठ मेरे होठों के पास ले आई.

मैंने भी मौके का फायदा उठाकर झट से अपने होंठ उसके होठों पे रख दिए और स्मूच करने लग गया. दोस्तों क्या मजा आ रहा था. पर मेरी चाहत तो थी उसके बूब्स. मैंने किस करते करते ही पूजा को पूरा बेड पे ले लिया और उसे अपने साइड मैं सुला लिया. अपना हाथ धीरे धीरे उसके बूब्स पे ले गया. दोस्तों क्या सॉफ्ट बूब्स थे उसके. उस दिन उसने कॉटन की सलवार कमीज़ पहनी थी और वो भी टाइट थी, उसके दूध मेरे हाथों में नहीं समा रहे थे.

मैंने आव देखा ना ताव सीधा उसकी कमीज़ क्यों निकालने लग गया. वो भी जोश में थी और मेरा साथ दे रही थी. मुझे अपने ऊपर खींच के कह रही थी. राज करो ना ,,,करो ना…मैंने सोच की पहली बार का चान्स जल्दी जल्दी निपटा लेते है, अगली बार से तो आराम से कर ही सकते है.

मैंने झट से उसके और अपने कपड़े उतार लिया. दोस्तों अगर आपने आइयर्षा तकिया को नंगी इमॅजिन कर अहोगा तो पूजा एकदम वैसे ही लग रही थी. दूध जैसी स्किन. उसके वो बारे बारे बूब्स और उसके चुत पे बाल भी नहीं थे.उसने जब मुझे घूरता देखा तो शर्माके आँख बंद कर ली और मुझे अपने ऊपर खींच लिया. मैं उसके दूध चूसने लग गया और वो भी मेरे लंड के साथ खेलने लग गयी. Mआइन उसके ऊपर था तो वो मेरा कान काट रही थी, मुझे बहुत ज्यादा मजा आ रहा था. उसने धीरे से मेरे कान मैं कहा, राज में गीली हो गयी हूं, डाल दो ना अंदर. मैंने उसके आनकी मैं देख तो वो शर्मा गयी, मैंने हाथ लगाकर देखा उसकी चिकनी चुत पे तो वो सचमे बहुत गीली हो गयी थी. मेरे हाथ लगते ही वो उछली और वापस प्ल्ज़्ज़ प्लज़्ज़्ज़ करने लग गयी. मैंने भी उसकी बात मानके अपना लंड उसके चुत के होल पे रख दिया.

जैसे ही मैंने धक्का मारना शुरू किया वो चिल्ला उठी और ऊपर खिसकने लगी. मैंने उसको पकड़ा और अपने होंठ उसके होठों पे रख दिए और ज़ोर से धक्का दिया. मेरा आधा लंड अंदर चला गया था. उसके आंखों में से आंसू आ गये थे. वो एकदम शांत हो गयी थी. बहुत टाइट थी उसकी चुत. वो कह रही थी राज प्ल्ज़्ज़ निकल दो बहुत दर्द हो रहा हे…प्ल्ज़्ज़ निकल दो…मैं कहा थोड़ा टाइम दो… अच्छा लगेगा और उसके बूब्स को चूसने लग गया. 5 मिनट ऐसे करने के बाद उसे अच्छा लगने लग गया…और वो खुद ही अपनी गान्ड उछालने लग गयी. मैं समझ गया की उसे अब मजा आने लग गया है…

उसके बाद मैं खूब धक्के देने लग गया और हमने 10 मिनट तक चुदाई की. फिर जब मैं छूटने वाला था मैंने अपना लंड बाहर निकल लिया और थोड़ा हिलाकर उसके पेट पे फवारा मर दिया. मेरा इतने ज़ोर से निकला की उसके चेहरे तक भी चला गया..और दोस्तों उसने जो उसके मुंह पे गिरा था वो चाट लिया…

तो ये थी मेरी और पूजा की पहली कहानी…होप आप लोगों को अच्छी लगी हो…आपके फीडबॅक का इंतजार करूँगा…मुझे याद से ई-मैल करिएगा. थॅंक्स फॉर रेआडिंग !!!

ओ-_-ओ

पूजा – हमारी प्यारी नौकरानी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here