पार्क मे बुड्ढे ने की चुदाई और खुलेआम मज़े लिए

1
7169
Back

1. पार्क में बुड्ढे ने की चुदाई और खुलेआम मजे लिए -park me budhe ne ki chudai khuleaam maze liye

बात उस मंडे की है जब में थोड़ा बीमार होने की वजह से ऑफिस नहीं जा पाया. दोपहर तक में बिलकुल ठीक हो गया था, ओर लंच करके अपने रूम में आराम कर रहा था. लेकिन मुझे नींद नहीं आ रही थी, बारिश का मोसां था ओर बाहर बदल होने की वजह से धूप नहीं थी, और मोसां सुहावना था, तो मैंने सोचा की सोसाइटी के पार्क में ताज़ी हवा लेने जा जाए.

जैसा की मैंने बताया की ये मंडे की दोपहर थी, इसलिए सब लोग अपने कॉलेज, ऑफिस या घर पर बिज़ी थे ओर पार्क बिलकुल खाली पड़ा था.

हल्की बारिश होकर रुकी थी, ओर ठंडी हवा चल रही थी.

में थोड़ा तक गया इसलिए एक बेंच पर बैठ गया, मेरे राइट साइड में एक बहुत बाड़ा पेड़ था, ओर उस पेड़ के पीछे की तरफ पार्क का एक छोटा सा कोना था, जो एक तरह से पूरे पार्क में लोगों की नज़रो से दूर एकांत में था.

मैंने कई बार कपल्स को शाम को वहाँ माकेऔट करते देखा है, लेकिन आज वहां पर सिर्फ़ एक बुड्ढा बैठा हुआ कोई बुक पड़ रहा था.

कोई इंट्रेस्टिंग चीज़ नहीं थी तो में आंखें बंद करके मोसां का मजा लेने लगा, तभी एक बहुत ही मदहोश कर देने वाले परफ्यूम की खुशबू ने मुझे आंखें खोल के इधर उधर देखने पर मजबूर कर दिया, लेकिन मुझे कोई नहीं दिखा.

पेड़ के पीछे देखने पर एक बहुत ही हॉट लड़की उस बुड्ढे से थोड़ा दूर एक बेंच पर बैठी हुई दिखाई दी ओर वो उस बुड्ढे को देखे जा रही थी, में पेड़ के पीछे था इसलिए उसको मेरे होने की खबर तक नहीं थी, वो बहुत ही हॉट, मस्त फिगर थी और उसकी ड्रेस बहुत टाइट और शॉर्ट थी, मुझे लगा की वो शायद उसे बुड्ढे की बेटी या कोई रिलेटिव होगी.

मैं फिर से आंखें बाद करके रिलॅक्स करने लगा लेकिन उस लड़की की इमेज बार बार मेरे दिमाग में घूमने लगी, ओर उसकी खुशबू हवा में आती हुई मुझे बेचैन करने लगी.

में उसकी एक ओर झलक पाने के लिए फिर से पेड़ के दूसरी तरफ देखा तो वहाँ के हालत थोड़े अजीब लगे.

अब वो लड़की बिलकुल उस बुड्ढे की तरफ देख रही थी ओर उसके हाथ उसकी जांघों के बीच में थे, वो शायद कुछ उठा रही थी या फिर पता नहीं क्यों उसकी पोज़िशन कुछ अजीब लगी ओर उसकी नज़ारो में एक अजीब सा नशा ओर प्यास झलकने लगी, अब बुड्ढे ने भी उसे नोटिस कर लिया था ओर थोड़ी हैरानी से उसकी ओर देखने लगा.

मुझे ये सब थोड़ा इंट्रेस्टिंग लगा तो में खुद को पेड़ के पीछे थोड़ा ओर छिपते हुए देखने लगा.

कुछ ही देर में वो लड़की अपनी जगह से खड़ी हुई ओर मस्त गान्ड मटकते हुए, उस बुड्ढे की बेंच की तरफ जाने लगी. उस वक्त में सोचने लगा की काश में उस बुड्ढे की जगह बैठा होता तो उसे ओर भी ज्यादा करीब से देख पाता.

में अपने ख़यालो में ही था की उस लड़की की नेक्स्ट हरकत ने मुझे ख़यालो से बाहर लाकर हैरान कर दिया,

Back

1 COMMENT

  1. यदि कोई हाट सैकसी असतुंषट लड़की या महिला अपने जीवन मे सैकस के आनन्द हेतु नोएडा दिल्ली मेरठ फ़रीदाबाद ग़ाज़ियाबाद मे गोपनीय रूप से सैकस कर पूर्ण आनन्द लेना चाहती तब मुंझे मेरे मोबाइल नम्बर पर काल या वाटसप करे सिरफ लड़की या ४३ वर्ष तक की महिलाएँ सादर

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here